कैसे सुलग उठा देवभूमि हल्द्वानी? थाने पर हमला, मदरसे पर बुलडोजर एक्शन, सड़कों पर आगजनी और 6 लोगों की मौत,

Haridwar News: हल्द्वानी में धार्मिक स्थानों को तोड़ने की घटना में 250 से अधिक लोग घायल हो गए और छह लोग मारे गए; दंगाइयों को देखते ही फायरिंग की आज्ञा,

शहर के प्रसिद्ध बनभूलपुरा इलाके में अवैध मदरसा और नमाज स्थल को ध्वस्त करने गई पुलिस, प्रशासन और नगर निगम की टीम को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने घेर लिया। उस समय उपद्रवियों ने बनभूलपुरा थाने पर भी हमला कर दिया, जहां पुलिस और मीडियाकर्मियों के कई वाहनों को आग लगा दी गई। पुलिस ने थाने से भागकर अपनी जान बचाई। प्रशासन ने भी तनावपूर्ण हालात को देखते हुए रात में इलाके में कर्फ्यू लगाया और उपद्रवियों को देखते हुए गोली मारने का आदेश दिया। 250 से अधिक लोगों के पथराव में घायल होने के कारण शुक्रवार को शहर के सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश भी दिया गया था। महिला सांसद

SP सहित 250 से अधिक लोग पथराव में घायल हैं और छह लोग मर चुके हैं। याद रखें कि हाई कोर्ट ने पिछले साल रेलवे की जमीन पर बसी 50 हजार लोगों की बस्ती को खाली करने का आदेश दिया था. यह आदेश बनभूलपुरा में लागू हुआ था। साथ ही पुलिस-प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने की पूरी तैयारी की थी। इस बीच मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया और अभी भी सुनवाई में है।

मदरसा और नमाज स्थल, जो वर्षों पहले बनभूलपुरा के मलिक का बगीचा में सरकारी (नजूल) जमीन पर बना था नगर निगम की टीम ने पिछले महीने ही मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र बनभूलपुरा के मलिक का बगीचा में वर्षों पहले बनाए गए मदरसा और नमाज स्थल का पता लगाया. ये स्थान सरकारी जमीन पर था, यानी नजूल भूमि। गुरुवार शाम लगभग पांच बजे प्रशासन, पुलिस और नगर निगम की टीम ने बुलडोजर का उपयोग करके अतिक्रमण तोड़ने का प्रयास किया।

पुलिस वाहन जला दिए गए,

प्रशासनिक अधिकारियों सहित करीब पांच सौ से अधिक पुलिसकर्मी भी उपस्थित थे। बुलडोजर ने अतिक्रमण को तोड़ना शुरू किया तो चारों ओर पथराव शुरू हो गया। देखते ही देखते ही मुस्लिमों की भारी भीड़ जुट गई। सड़कों और घरों की छत से पथराव किया गया, जहां-तहां पुलिस बलों और मीडियाकर्मियों के वाहन जला दिए गए।

एसडीएम कालाढूंगी रेखा कोहली, एसपी हरबंस सिंह और अन्य निगम और पुलिस अधिकारियों को भी पत्थर लगे। तब लगभग छह बजे तक पूरे क्षेत्र में शोर मचा हुआ था। जब भीड़ बनभूलपुरा थाने के बाहर खड़े पुलिस और मीडियाकर्मियों के कई वाहनों को आग लगा दी, तो वह थाने की ओर चली गई। बेस अस्पताल और डा. सुशीला तिवारी अस्पताल में पथराव में घायल करीब 250 से अधिक लोगों को उपचार दिया गया है।

One thought on “कैसे सुलग उठा देवभूमि हल्द्वानी? थाने पर हमला, मदरसे पर बुलडोजर एक्शन, सड़कों पर आगजनी और 6 लोगों की मौत,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version